Thursday, July 25, 2013

छूकर तेरे बदन को

छूकर तेरे बदन को एक नशा सा छा गया
आया था तो सीधा पर लहराता हुआ गया

खुशबू तेरे बदन की साथ लेकर चला गया
में हवा का एक झोंका लहराता हुआ गया


No comments:

Post a Comment