Saturday, May 28, 2011

ऐ जानेमन, ओ जानेमन

सुन जानेमन, जानेमन
कहता है मेरा मन
तेरी आखों में डूब के
खो जाऊं मैं सनम

जिस दिन से तुझको देखा
पागल है तन और मन
तेरी आखों में डूब के
खो जाऊं मैं सनम

जानेमन, ऐ जानेमन

कल सपनो में तू आई थी
आग मैं है तन-औ-बदन
तेरे प्यार मैं डूब के
खो जाऊ जानेमन

हर आहट ये लगे है
कहे तू है मेरा मन
तेरे प्यार में डूब जाने दे
खो जाने दे जाने मन

ऐ जानेमन, ओ जानेमन

No comments:

Post a Comment