Sunday, May 29, 2011

फुर्सत के आलावा कुछ भी नहीं

खुशनसीब हो जो दर बदर रहे हो बरसों से
अपनी ज़िन्दगी में फुर्सत के आलावा कुछ भी नहीं

No comments:

Post a Comment