Saturday, May 28, 2011

मैं एक परिंदा हूँ

मैं एक परिंदा हूँ उड़ता फिरून मैं मुझको इसकी क्या खबर
चलता चलूं मैं फिरता आवारा जहाँ ले चले जीवन सफ़र

तुम आओ तो बनके साथ हमराही उड़ेंगे हम डगर डगर
ना आओ तो याद रखेंगे तुमको हर मंजिल हर सहर

मैं एक परिंदा हूँ उड़ता फिरून ...

No comments:

Post a Comment