Tuesday, January 20, 2009

संजू बाबा और नारी का अपमान

संजू बाबा संजू बाबा
बज़ गया दिमाग का बाजा
अमर भइया लगे दिए आग
आप ने दिया बस वचन दाग

संजू बाबा संजू बाबा
बज गया दिमाग का बाजा
जैसे बजा था सालों पहले
जब AK47 से आप थे खेले

ऐसा बजा अब फिर से बाजा
कर दिया स्त्री अपमान क्यों बाबा ?
क्यों किया ये अपराध ये ताज़ा ?
संजू बाबा संजू बाबा

अब 'अमर' बन गए दुर्वचन ये तेरे
पश्चाताप तू कितना भी कर ले
नहीं पड़ेगी 'मुलायम' कोई नारी
बोले चाहे तू कितना भी सॉरी

संजू बाबा संजू बाबा
एक बार अपनी माँ को कर लेता याद
अब क्या फायदा बोलने के बाद
अब तो बज गया तेरा बाजा

संजू बाबा संजू बाबा ...