Friday, December 5, 2008

हुस्न आया है ज़मीं पर सजाने के लिए

शराब बनाई खुदा ने पैमाने के लिए,
बोतल न खुली तो उसे गम होगा.

हुस्न आया है ज़मीं पर सजाने के लिए,
जो छुपा के रखा तो जुलम होगा.

No comments:

Post a Comment