Friday, December 5, 2008

कातिल

कातिल बना दिया रे तेरे हुस्न ने हमको,
डर है की कहीं ख़ुद को ही न मार बैठें हम.

No comments:

Post a Comment